बकरियों के नस्ल का चुनाव:

मुनाफा के ख्याल से बकरी-पालन करने वालों को उन्नत नस्ल की बकरियों का चुनाव करना होगा। इसके लिए उन्हे उन्नत नस्ल की प्रमुख भारतीय बकरियों के संबंध में थोड़ी बहुत जानकारी हासिल कर लेनी चाहिए।

भारतवर्ष में जमनापारी, बीटल, बरबेरी, कच्छी, उस्मानावादी, ब्लैक बंगाल, सुरती, मालवारी तथा गुजराती आदि विभिन्न नस्लों की बकरियाँ पैदावार के ख्याल से अच्छी नस्ल की समझी जाती है।

पहाड़ी क्षेत्रों में कुछ ऐसी भी बकरियाँ पाई जाती है, जिनके बालों से अच्छे कपड़े बनाये जाते हैं, लेकिन उपर्युक्त सभी नस्लों में दूध मांस और खाद्य उत्पादन के लिए जमनापारी, बीटल और बरबेरी बकरियों काफी उपयोगी साबित हुई है।

इन तीनों नस्लों में भी जमनापारी नस्ल की बकरियाँ बिहार की जलवायु में अच्छी तरह से पनप सकती है। इसलिए बिहार में बकरी-पालन करने के लिए जमनापारी नस्ल की बकरियाँ पालन ज्यादा उचित होगा।

इस नस्ल की बकरियाँ उँचे कद की होती है। इसकी औसत लम्बाई 46 से 50 इंच तक होती है तथा वजन 100 से 140 पौण्ड तक होता है। प्रति बकरी औसत दूध-उत्पादन 6 पौण्ड पाया गया है, जो हमारे यहाँ की आयों की औसत उत्पादन से कम नहीं है।

पशु प्रदर्शनियों में से यह नस्ल की कतिपय बकरियों ने 13 पौण्ड तक दूध दिया है। चूंकि अभी भी जमनापरी नस्ल की बकरियाँ पर्याप्त संख्या में उपलब्ध नहीं हो सकती है, इसलिए बकरी-पालन करने वालों को चाहिए कि वे जमनापरी और उत्तम देशी नस्ल के संयोग से तैयार संकर बकरियों का चुनाव करें जो अपेक्षकृत सस्ती होंगी और आसानी से मिल भी जायेगी।

बारबरी बकरी की प्रमुख विशेषता

1.बरबरी

बारबारी या बारी भारत और पाकिस्तान में एक व्यापक क्षेत्र में पाए जाने वाले छोटे घरेलू बकरे की नस्ल है। यह भारत में हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश और पाकिस्तान के पंजाब और सिंध प्रांतों में वितरित किया जाता है।

Goat Farming: जमुनापारी बकरी पालन से कमाएं अधिक मुनाफा!

2.जमुनापरी

जमनापारी या जमुनपारी, उत्तर प्रदेश में उत्पन्न होने वाली घरेलू बकरी की एक भारतीय नस्ल है। यह इंडोनेशिया को निर्यात किया गया है, जहां इसे इटावा के रूप में जाना जाता है। यह दूध और मांस दोनों के लिए वर्जित है। यह नाम यमुना नदी से लिया गया है।

Beetal Goat and Sirohi Goats Wholesaler | Golden Goat Farm, Dhoraji

3.बीटल

बीटल बकरी भारत के पंजाब क्षेत्र की एक नस्ल है और दूध और मांस उत्पादन के लिए पाकिस्तान का उपयोग किया जाता है। यह जमनापारी बकरी और मालाबारी बकरी के समान है। इसे लाहौरी बकरी के रूप में भी जाना जाता है; यह शरीर के बड़े आकार के साथ एक अच्छा दूध देने वाला माना जाता है। कान फ्लैट लंबे कर्ल किए हुए और ड्रोपिंग हैं।

जो पालता है इस बकरी को उसे मालामाल कर देती है यह बकरी!(Sirohi goat)

4.सिरोही

सिरोही घरेलू नस्ल की भारतीय नस्ल है। इसका नाम इसके मूल क्षेत्र, राजस्थान के सिरोही जिले, उत्तर-पश्चिमी भारत में रखा गया है। यह एक दोहरे उद्देश्य वाली नस्ल के रूप में वर्णित किया जा सकता है, जो मांस और दूध उत्पादन दोनों के लिए पाला जाता है, या मांस की नस्ल के रूप में। यह राजस्थान की शुष्क उष्णकटिबंधीय जलवायु के अनुकूल है।

Goat Farm Project Report (100+4) | Sheep Farm

5.ब्लैक बंगाल

ब्लैक बंगाल बकरी बांग्लादेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, असम और ओडिशा में पाया जाने वाला बकरा है। यह नस्ल आमतौर पर काले रंग की होती है लेकिन यह भूरे, सफेद या भूरे रंग में भी पाई जाती है। ब्लैक बंगाल बकरी आकार में छोटी है लेकिन इसकी शरीर की संरचना तंग है। इसके सींग छोटे होते हैं और पैर छोटे होते हैं।