कृत्रिम भोजन

मछली के अधिक उत्पादन के लिए प्राकृतिक भोजन के अलावा कृत्रिम भोजन की आवश्यकता होती है। इसके लिए सरसों की खली एवं चावल का कुंडा बराबर मात्रा में उपयोग किया जा सकता है। मिश्रण डालने की विधि इस प्रकार होनी चाहिए।

S.No. भोजन देने की अवधि प्रतिदिन
(मात्रा किलोग्रा./एकड़)
1 जीरा संचय से तीन माह तक 2-3
2 चौथे से छठे माह तक 3-5
3 सातवें से नवें माह तक 5-8
4 दसवें से बारहवें माह तक 8-10

इस प्रकार मछली पालन करने से ग्रामीणों को बिना अधिक परिश्रम से और अन्य व्यवसाय करते हुए प्रति वर्ष प्रति एकड़ 1500 किलोग्राम मछली के उत्पादन द्वारा 25 हजार रूपये का शुद्ध लाभ हो सकता है।